Categories
Uncategorized

मैं पैसों का क्या करूँगा ? (फाइनेंसियल प्लानिंग in hindi)

मुझे अकसर ऐसे लोग मिल जाते हैं जो अपने आप से ये सवाल पूंछते है ,

“ मैं इन पैसों का क्या करूँगा” 

“जो मैं कमा रहा हूँ , क्या मैं अपने साथ ले जाऊंगा”

और फिर ये कहने के बाद अपनी ज़िन्दगी में उसी तरह लग जाते हैं जिस तरह लगे हुए थे |  पैसों के पीछे परेशान और बेहाल|  उनको ये तो महसूस हुआ कि कहीं ना कहीं उनकी जरूरतें सीमित हैं मगर फिर भी वो अपने आपको ये नहीं समझा पाते कि बस अब हो गया|  लगे रहते हैं पैसों के पीछे हाय तोबा करते| 

कुछ लोगों को मैंने पाया है कि वो अपने आपको insecure महसूस करते हैं|  उन्हें लगता है कि आज to बढ़िया चल रहा है मगर क्या पता कल हो ना हो ! इसलिए लगे रहते हैं पैसे बटोरने में| 

तो ऐसा क्यूँ होता है ?

ऐसा क्या है जो हमें रात दिन परेशान करता है ? क्या आपने कभी अपने इस सवाल को गेहराई से समझा-परखा|  मैं भी पहले सोचा करता था कि अगर मेरी नैउकरी चली गई to मैं कैसे अपनी और अपने परिवार की ज़िन्दगी चलाऊंगा? मुझे भी insecurity की feelings आती रहती है| 

 तो हम इस insecure feelings से कैसे अपने को आज़ाद करें?  क्या कोंई उपाय है ?

जी हां |  उपाय है | 

इसका उपाय ये है कि हम आपने पैसों की प्लानिंग यानि financial planning करें| 

तो क्या है ये financial planning और कैसे की जाती है| 

financial planning का मतलब है कि आपको अपने पैसों से क्या करना है इसका पूरा विस्तृत प्लान |  आपके प्लान में ये आपको पता रहता है कि आपके पास पैसा कहाँ से आएगा और कहाँ जायेगा|  आपको पता रहेगा कि आप के फाइनेंसियल goals या यूँ कहें कि आपके वो प्लान जो आप अपने लिए और अपने परिवार के लिए करते हैं उनको कब तक में और कैसे पूरा कर लेंगे?

आपका प्लान एक written document(लिखित दस्तावेज़) होता है|  ये आपको नक़्शे की तरह गाइड करता है कि आपके जीवन के अलग-अलग पड़ाव में आप कैसे आगे बढ़ेंगे| 

चलिए थोडा इस प्लानिंग को खुलकर समझते हैं |  मान लीजिये आपके 2 बच्चे हैं और अभी वो छोटे हैं| आपके बच्चे 6 और 2 साल के हैं| आप अभी 35 साल के हो गए हैं|  आप किसी दफ्तर में नौकरी करते हैं और आपकी retirement की age है 60 साल|  आप दोनों कमाते हैं|  क्या आप बता सकते हैं आपके आने वाले समय में आपको किस-किस तरह के खर्चों के लिए तैयार रहना होगा ?

  1. आपके बच्चों की एजुकेशन
  2. आपकी retirement
  3. आपके पास शायद अपना घर ना हो मगर आप जरूर चाहोगे कि आपके पास आपका खुद का घर हो

ये कुछ ऐसे खर्चे हैं जिसके लिए आपकी एक महीने, एक साल की सैलरी से पूरा होना ना संभव नहीं है|  क्यूंकि ये खर्चे बड़े हैं, आपको काफी सारा पैसा इक्कठा करना होगा|  और उतना पैसा इक्कठा करने के लिए एक प्लान तैयार करना होगा|  इसी प्लान की मैं बात कर रहा हूँ आपसे |  

एक अच्चा plan आपको बताता है कि आपको किस तरह अपने financial goals तक पहुँच पाएंगे|  इतना ही नहीं ये आपके खर्चों को भी नियंत्रित करने में कारगर सिद्ध होगा|  ऐसा आप इसलिए कर पाएंगे क्यूंकि आपको तब पता होगा कि आपको कितना पैसा इक्कठा करने के लिए हर महीने, हर साल कितना बचाना है और कहाँ लगाना है|

financial planning(फिन प्लान) के कई पहलू हैं|

  1. सेविंग्स प्लान
  2. निवेश का प्लान
  3. बीमा का प्लान
  4. इनकम टैक्स का प्लान
  5. बजट

financial प्लानिंग को मैं अब आगे फिन प्लान और फिन प्लानिंग से रेफर करूँगा| 

आपकी फिन प्लानिंग अच्छी होगी to आपको insecurity की feelings ख़त्म हो जाएँगी|  हम जीवन में किसी भी पड़ाव में हों फिन प्लानिंग से हम अपनी life बेहतर और मस्त बना सकते हैं| 

हर व्यक्ति को अपनी फिन प्लानिंग करनी चाहिए|  जितनी जल्दी आप इसे शुरू करेंगे उतनी ज्यादा अच्छी आपकी फिन प्लानिंग हो पायेगी| 

तब आप अपने आपको सचमुच आज़ाद महसूस कर पाएंगे – चिंताओं से|